Before you Quit, Sit and think. 

Its Ok you failed many times, 

Its Ok if you think you are not made for this,

But why are you quitting ??

Don’t Quit

Do it another way,  you are now more experienced.

You want to shine and you want to glow, 

Don’t panic it takes time and you will be a pro, 

You thought that you gave your best, 

then why you’re heart aching in your chest? 

Be more passionate be more crazy, 

just stand now don’t be lazy. 

– Ajeet Singh Dhruv ©

Advertisements

Fight between sleep and your dreams. 

A fight between sleep and your dreams. 

If you have a perception, that sleeping 6 to 8 hours is just a wastage of time 

and while in the morning you don’t need any morning alarm to wake you up, 

Congrats you are definitely living a meaningful life.

Dream is not that which you see while sleeping it is something that does not let you sleep.-A.P.J ABDUL KALAM 

हाँ मैंने मेला देखा है- A sad poem

हाँ  मैंने मेला देखा है

चुप चाप खड़े एक कोने से झूलो को

चलते देखा है

हाँ  मैंने मेला देखा है

 

परदे के पीछे से छिपकर जोकर को हसते देखा है

हाँ मैंने मेला देखा है

 

चंचल मन में लिए लालसा

मैंने सोच लिया जब वो बर्फ का गोला खाना है

भीगी आँखों से माँ ने पूछ लिया तब

क्या मेरे लाल ने मेला देख लिया ?

नन्हे बटुए से माँ को चंद पैसे गिनते देखा है

हाँ  मैंने मेला देखा है

 

माँ इन झूलो से डर सा लगता है

भला ये बर्फ भी कोई खाता है

ये जोकर तो यूँ ही हसता है,

चल माँ हाँ मैंने मेला देख लिया.

AJEET SINGH DHRUV(c)